Bachelor of Physiotherapy (BPT) कैसे करें , कहाँ एडमिशन लें , कितना कमा सकते हैं

Advertisements

BPT (Bachelor of Physiotherapy)

बीपीटी या बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी चार साल का अंडर graduate कोर्स है जो स्वास्थ्य क्षेत्र के अंतर्गत आता है इसमें मुख्य रूप से अस्थमा, पार्किंसंस रोग, हृदय रोग, स्ट्रोक, सिस्टिक फाइब्रोसिस, पेल्विक जैसे विभिन्न रोगों का इलाज किया जाता है और शरीर की Activities पर ध्यान रखा जाता है। बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी कोर्स वैसे तो चार साल का है पर इसमें 6 महीने की इंटर्नशिप करना भी जरूरी है इसलिए यह 4½ साल का पूरा कोर्स माना जाता है।

Advertisements

फिजियोथेरेपी एक ऐसा पेशा है जिससे लोगों को उनकी शारीरिक गतिशीलता, कार्य और कार्य करने की शक्ति को बढ़ाने, बनाए रखने में मदद करता है। इसमें हड्डियों का इलाज किया जाता है और पुराने दर्द या जोड़ो के दर्द को एक्सरसाइज करवा कर ख़त्म किया जाता है। यह पूरी तरह से प्राकृतिक है इसलिए इसके कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं है। इसमें बस आपको सही से एक्सरसाइज करवानी होती है और करने वाले को सही से करनी होती है।

BPT कोर्स के लिए eligibility –

Advertisements

कक्षा 12th साइंस स्ट्रीम में करने वाले छात्र बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी पाठ्यक्रम के लिए आवेदन कर सकते हैं। छात्र के मुख्या विषय भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान होने चाहिए। प्रवेश के लिए न्यूनतम मार्क्स 50% होना जरुरी है। भारत में कुछ विश्वविद्यालय बीपीटी course के लिए छात्रों को प्रवेश देने के लिए एक entrance exam आयोजित करते हैं। इन प्रवेश परीक्षाओं में से कुछ CET, JIPMER आल इंडिया प्रवेश परीक्षा, गुरु गोविंद इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी फिजियोथेरेपी प्रवेश परीक्षा, आदि हैं। जब आप एंट्रेंस एग्जाममें पास हो जाते है तो एक मेरिट लिस्ट निकलती है। यदि आपका नाम मेरिट लिस्ट में आता है तो आपको अपने पसंद के  कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है। इसके अलावा कुछ ऐसी भी कॉलेज है जो बिना किसी एंट्रेंस एग्जाम के बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी कॉलेज में आसानी से एडमिशन दे देते है।

पाठ्यक्रम के लिए आवश्यक कौशल –
बीपीटी कोर्स करने के लिए आपमें कुछ ख़ास कौशल होने चाहिए जो आपको एक सफल फैसिओथेरेपिस्ट बनने में काफी मदद करेंगे।
आपको अपने ग्राहकों के साथ बहुत ज्यादा धैर्य और संयम रखने की जरूरत है और उनकी बीमारी और पीड़ा के प्रति उच्च स्तर की सहानुभूति होनी चाहिए। आपको अपने ग्राहकों को आश्वस्त करना होगा की आप उन पर जो चिकित्सा कर रहे है वह पूर्णतया सेफ है और वो जल्दी ही ठीक हो जायेंगे। कुछ खास कौशल इस प्रकार है –

  • अंग्रेजी में प्रवाह
  • प्रेरक स्वर में बोलने की क्षमता
  • भाषण की स्पष्टता
  • प्रक्रियाओं के पीछे वैज्ञानिक तर्क
  • बुद्धिमानी से उपकरण संचालित करने की क्षमता
  • सहानुभूति
  • आत्मविश्वास
  • समझाने और राजी करने वाला
  • अच्छी प्रस्तुति कौशल

बीपीटी कोर्स में निम्न टॉपिक्स होते है –

  • हाथ से किया गया उपचार
  • व्यायाम, और
  • उपचार के  electro-physical mode के अनुप्रयोग

भारत के कुछ टॉप फिजियोथेरेपी कॉलेजों के नाम 

Advertisements
  • Christian Medical College, वेल्लोर
  • Sri Ramachandra Institute for Higher Education and Research (SRIHER), चेन्नई
  • Manipal University, मणिपाल
  • Bundelkhand University, झाँसी
  • पटना मेडिकल कॉलेज – PMT, पटना
  • पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च-PGIMER, चंडीगढ़
  • अमर ज्योति इंस्टिट्यूट ऑफ़ फिजियोथेरेपी, दिल्ली
  • पीटी भागवत दयाल शर्मा पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पीजीआईएमएस) रोहतक
  • लोकमान्य तिलक म्यूनिसिपल मेडिकल कॉलेज (एलटीएमएमसी) मुंबई

भारत में सर्वश्रेष्ठ फिजियोथेरेपी कॉलेजों में प्रवेश के लिए पाठ्यक्रम शुल्क INR 1 लाख से 5 लाख प्रति वर्ष तक हो सकता है।

बीपीटी कोर्स करने के फायदे –

  • बीपीटी कोर्स (BPT Course) करने के बाद आप फ़िज़ियोथेरेपिस्ट डॉक्टर या एक्सपर्ट हो जाते है।
  • आप किसी स्कूल सरकारी या निजी अस्पताल में फ़िज़ियोथेरेपिस्ट के रूप में नौकरी कर सकते है या अपना खुद का फ़िज़ियोथेरेपिस्ट क्लिनिक खोल सकते हैं।
  • बीपीटी कोर्स करने बाद आप किसी का फिजियोथेरेपी हॉस्पिटल में भी जॉब कर सकते है।
  • बीपीटी करने के बाद विदेश में भी बहुत स्कोप है।

BPT कोर्स के main सब्जेक्ट –

  • एक्सरसाइज थेरेपी
  • आर्थोपेडिक्स और स्पोर्ट्स फिजियोथेरेपी
  • न्यूरो-फिजियोथेरेपी
  • कम्युनिटी बेस्ड रिहैबिलिटेशन
  • एनाटोमी

BPT Course के बाद job –
इस कोर्स को करने के बाद आपके पास जॉब के बहुत सारे विकल्प खुल जाते है आप अपनी कौशल के आधार पर  निम्न में से कोई भी जॉब कर सकते है।

  • थेरेपी मैनेजर
  • सेल्फ एम्प्लॉयड प्राइवेट फ़िज़ियोथेरेपिस्ट
  • स्पोर्ट्स फिजियो रेहाबिलिटटर
  • कस्टमर केयर असिस्टेंट
  • ओस्टेओपैथ
  • असिस्टेंट फ़िज़ियोथेरेपिस्ट
  • लेक्चरर
  • रेसेअर्चेर
  • रिसर्च असिस्टेंट

जब आप बैचलर ऑफ़ फिजियोथेरेपी का course कर लेते हो तो आपको काफी ज्यादा सैलरी मिलने लगती है और इस फील्ड में रेस्पेक्ट भी बहुत ज्यादा मिलती है। यहाँ हम बता रहे है की आप कहाँ जॉब कर सकते है –

  • डिफेन्स मेडिकल एस्टाब्लिशमेंट्स
  • प्राइवेट क्लीनिक
  • फिजियोथेरेपी इक्विपमेंट मनुफक्चरर्स
  • एजुकेशनल इंस्टीटूशन्स
  • फिटनेस सेंटर्स
  • स्पोर्ट्स ट्रेनिंग फैसिलिटीज
  • हॉस्पिटल्स
  • ओर्थपेडीक डिपार्टमेंट्स
  • रिहैबिलिटेशन सेंटर्स फॉर थे हैंडीकैप्ड
  • स्कूल्ज फॉर थे मेंटली रिटार्डेड एंड फिजिकली डिसेबल्ड चिल्ड्रन
  • हेल्थ इंस्टीटूशन्स

Physiotherapy के क्षेत्र में नौकरी के अवसर बहुत अधिक होते हैं। एक अच्छा फ़िज़ियोथेरेपिस्ट बहुत सी Disorders और Conditions को ठीक करने में सहायता करता है। इसलिए यह कह सकते है कि Physical Therapist रोगियों के साथ मिलकर काम करते हैं। यह एक तरह की समाज सेवा का भी कार्य होता है।

Advertisements

Leave a Comment

error: Content is protected !!