बॉल पेन बनाने का बिज़नेस – Pen Manufacturing Business & Machine Information

बॉल पेन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? दोस्तों हमारे देश में उद्योगों के लिए कई सारे ऐसे उत्पाद है, जिनका बिजनेस शुरू करके हम अच्छी खासी इनकम कर सकते हैं। रोजाना के कार्याें में काम आने वाले ऐसे उत्पादों की मांग बाजार में दिन-दिन बढ़ती रहती है। ऐसे कई उद्योगों के बारे में हमने आपको पहले ही बता दिया है। आज हम बात करने वाले हैं एक ऐसे उद्योग की जिसमें बनने वाला उत्पाद हर उम्र के व्यक्ति और बच्चों के काम आता है। आज हम पेन बनाने के उद्योग के बारे में जानेंगे। पेन एक ऐसा साधन है जो विद्यालय में प्रवेश लेने के बाद बच्चों के लिए एक प्यारी आकर्षक चीज होती है।

जिस प्रकार वक्त देखने के लिए इंसान हाथ में घड़ी पहनता है, ठीक उसी प्रकार आज के वक्त में पेन को भी अपने पास रखा जाता है। शिक्षित व्यक्ति की ये एक समाज में पहचान बनाता है। कभी-कभी जब किसी काम से हमारे पास पेन नहीं होती तो वहां इज्जत बिगड़ने जैसी बात हो जाती है। कई जने तो कह देते हैं कि पढ़े लिखे होकर पास में पेन नहीं रखते। एक कवि और लेखक के लिए ये सबकुछ होती है।

कहते हैं पेन के बिना एक पेनकार अधूरा रहता है। आपने देखा होगा दुकानों पर हिसाब किताब करने के लिए भी पेन का उपयोग किया जाता है। भले ही आज मशीने उपलब्ध हो लेकिन पुराने लोग और कई जने आज भी पेन का उपयोग करते हैं। तो अब हम जानेंगे आप पेन बनाकर कैसे इस उद्योग को शुरू कर सकते हैं।

क्या-क्या चाहिए बॉल पेन बिजनेस के लिए ?

दोस्तों सबसे पहले आपके मन में यही प्रश्न होगा कि इसे हम घर पर शुरू कर सकते हैं या नहीं, तो दोस्तों इस उद्योग को आप अपने घर भी शुरू कर सकते हैं। ये एक लघु उद्योग की श्रेणी में आता है। यदि आपके उत्पाद की मांग बढ़ती है तो आप इसे कई बड़ी फैक्ट्री लगाकर भी शुरू कर सकते हैं।

बॉल पेन बनाने की मशीन Pen Making Machine

आपको बॉल पेन बनाने के लिए तीन मशीनों की आवश्यकता पड़ती है। पहली मशीन बैरल में नोक और एडेप्टर फीट करने के काम आती है। दूसरी मशीन बैरल में इंक भरने के काम आती है और तीसरी मशीन इंक भरने के बाद पेन से जो हवा निकालनी होती है ताकि पेन से इंक ना निकले उसके काम आती है। ये मशीने बिजली से काम नहीं करती इसलिए आपको बिजली कनेक्शन की जरूरत नहीं पड़ती है। ये तीनों मशीने आपको एक साथ मिल जाएगी। मात्र 30 या 40 हजार रुपये तक ये तीनों मशीनों आप इंडिया मार्ट या आपके नजदीकी बाजार से खरीद सकते हैं।

बॉल पेन बनाने के लिए रॉ मटेरियल – Raw Material For Pen Manufacturing

इसके बाद आपको कुछ राॅ मेटेरियल की जरूरत होती है। जिनमें बैरल जो 150 रुपये के 250 बैरल के हिसाब से आपको मिल जाते हैं। इसके बाद पेन की नोक और जिसमें नोक लगती है वो एडेप्टर आदि को आप कुछ मात्रा में खरीद सकते हैं।

ये आपको 100 रुपये के हिसाब से 400 या 500 की संख्या में मिल जाते हैं, अलग-अलग क्वालिटी के हिसाब से इनकी संख्या और रेट बढ़ती रहती है। इसके बाद आपको इंक खरीदनी होगी जो आपको बाजार में आसानी से मिल जाती है। ये आपको 750 रुपये में 1 लीटर के हिसाब से मिल जाती है।

हमेशा अच्छा राॅ मेटेरियल खरीदे। आपको पेन बनाने वाली बड़ी-बड़ी कम्पनियों से भी राॅ मेटेरियल सस्ते में मिल जाता है। एक-एक करके एक-एक पेन ना बनाये, ऐसा करने से आपका वक्त बर्बाद हो जाएगा।

पेन बनाने का तरीका – Pen Manufacturing Process

  • सबसे पहले आपको बैरल को लेकर एडेप्टर फीटिंग मशीन में लगाना होगा
  • उसके बाद एडेप्टर को मशीन में लगाकर एक हेंडल को पकड़के पुश करना होगा। ऐसा करने से पेन में एडेप्टर फिक्स हो जाएगा।
  • उसके बाद एक सांचा होता है जिसमें नोक लगे होते हैं, आपको सरलता से एडेप्टर में नोक को फिक्स करना होता है।
  • इसके बाद इंक वाली मशीन का काम होता है। इंक वाली मशीन में बैरल को निर्धारित स्थान पर लगाकर उसपे लगे हेंडल को पुश करना होता है, आप देखेंगे कि बैरल में इंक भरा जायेगी।
  • इसके बाद तीसरी मशीन का काम होता है जो पेन को अंतिम रूप देने का कार्य करती है। यदि पेन में भरी हुई हवा को निकाला नहीं जाता तो इंक निकल जाती है, इसीलिए इस मशीन के द्वारा हवा को बाहर निकाला जाता है।
  • इस मशीन मेें बने खाचों में पेन को रखनी होती है उसके बाद इसे गुमाई जाती है, जिससे कि पेन में भरी हवा पूरी तरह निकल जाती है।
  • अब आपकी पेन पूरी तरह बनकर तैयार हो जाती है, आप इसे लिखने के लिए उपयोग में ले सकते हैं।

पेन को कैसे बेचे और प्रचार कैसे करें

आपका उत्पाद एक ऐसा उत्पाद है, जो कहीं भी बिक सकता है। इसका कोई एक पर्टीकूलर क्षेत्र नहीं है। ये सभी के उपयोग में आने वाला उत्पाद है। सबसे पहले आपको अपने उत्पाद का प्रचार करना होगा।

  • न्यूजपेपर्स आदि में आप अपनी पेन का एड दे सकते हैं।
  • आप होलसेल वाले दूकानदार को अपना उत्पाद बड़ी मात्रा में सेल कर सकते हैं।
  • इतना ही नहीं आप आपके शहर या आस-पास की हर स्टेशनरी की दूकानों या किराणों की दूकानों पर अपने उत्पाद को बेचे।
  • आप उन दूकानदारों से अपना एक अच्छा नेटवर्क बनाकर रखें।
  • इतना ही नहीं विद्यालय के पास वाली दूकानों पर भी अपने उत्पाद को बेचने का प्रयास करें। आपके पास एक अवसर आ सकता है और वो ये है कि कई कम्पनियां अपने उत्पाद के साथ पेन आदि उपहार स्वरूप देती है, जिसके लिए आपको आॅर्डर मिल सकता है।
  • आप कई प्रोडक्ट वाली कम्पनियों से सम्पर्क करके उन्हें बता सकते हैं कि वो अपने उत्पाद के साथ आपके प्रोडक्ट को भी प्रमोट कर सकते हैं, जिनसे उनके साथ-साथ आपके उत्पाद की भी सेल बढ़ेगी।

बॉल पेन बनाने में मुनाफा कितना होगा जाने

यदि आप एक दिन में दो हजार पेन बनाते हैं, तो आपके हजार पेन पर खर्चा लगभग 500 से 700 रुपये तक आ जाता है। आप एक पेन के पैकेट जिसमें लगभग 20 पेन हो और उसे आप 45 रुपये में बेचते हो, तो आपको 10 रुपये के खर्च में 45 रुपये मिलते हैं। आपको 20 पेन पर 35 रुपये का फायदा होता है। इसके हिसाब से आप दो हजार पेन बेचकर 3500 रुपये तक दिन के कमा सकते हैं। ये आपकी मेहनत पर है कि आप एक दिन में कितनी पेन बना पाते हैं।

इन बातों का ध्यान रखना होगा

इस बिजनेस के संचालन में आपको कई बातों का ध्यान रखना होता है। कई बार मौसम में बदलाव के कारण इंक जम जाती है, जिसके लिए मशीन के साथ एक हीटर आता है। इस हीटर के द्वारा आपको इंक को सही करनी चाहिए, उसके बाद ही आपको बैरल में इंक भरनी चाहिए। एडेप्टर और नोक को ध्यानपूर्वक लगाएं क्योंकि कई बार इनके खराब होने के चांसेज ज्यादा रहते हैं। मशीनों की नियमित सफाई करते रहना चाहिए। आप मेहनत करने से कतराये नहीं क्योंकि यदि आप मेहनत ज्यादा करेंगे तभी आपका ये बिजनेस चल पाएगा।

इंक हमेशा क्वालिटी की ही खरीदे क्योंकि कई कम्पनियों की इंक कम पैसे में ज्यादा लीटर में प्राप्त हो जाती है और लालच में आकर कई जने उसे खरीद लेते हैं। पेन में इंक भरने के बाद उसमें से हवा निकालने का काम जरूर करें भूले नहीं। यदि आप पेन के अंदर से हवा निकालना भूल जाते हैं, तो जो भी आपकी पेन खरीदेगा उसके कपड़े इंक से खराब हो सकते हैं। आपने देखा होगा कई बार पेन से इंक निकल जाती है, जिसके कारण कपड़े या कागज खराब हो जाते हैं। ये काम एक जगह जमकर करने का है और इसमें आपको अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना होता है। इसके लिए आप बराबर हिलते डूलते रहे।

आंखों को हमेशा टिमटिमाते रहे क्योंकि कई बार हम काम करते-करते उसमें इतना मग्न हो जाते हैं कि आंखों को टमकाना ही भूल जाते हैं, जिससे कि आंखें सूखने से हमें धीरे-धीरे कम दिखाई देता है। इस उद्योग के लिए आपको रजिस्ट्रेशन कराने की आवश्यकता नहीं पड़ती है क्योंकि ये एक छोटे स्तर का काम होता है।

यदि आप इसे बड़े स्तर पर ले जाने चाहते हैं, तब याद रखकर इसका रजिस्ट्रेशन जरूर कराले। इसके लिए आपको एक योजना बनाकर चलना होगा। एक बार शुरूआत में आप 70 या 80 पेन के एडेप्टर फीट कर दीजिए। उसके बाद आप एक साथ 30 से 40 पेन की इंक एक साथ भर दीजिए लेकिन ज्यादा मात्रा में ना भरे क्योंकि इंक निकल सकती है।

उसके बाद जितने सांचे बने होते हैं, उन सभी में पेन जमाकर पेन से हवा निकलने के लिए रख दे। ऐसे कार्य करने से आप ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पेन बना पायेंगे और आप बोर भी नहीं होंगे।

ऐसे कामों में बोरियत सी आ जाती है, जिसके लिए आप संगीत आदि सुनकर मन बहला सकते हैं और साथ-साथ काम कर सकते हैं। ऐसा करने से आपकी मानसिकता और आपके कार्य करने की क्षमता में बदलाव आ जाता है। संगीत आपको ऐसा काम ज्यादा क्षमता से करने के लिए प्रेरित करता है, जिससे कि आप ज्यादा बेहतर तरीके से काम कर पायेंगे। यदि आप अपनी पेन पर आपके प्रोडक्ट का कोई नाम रखकर छापना चाहते हैं, तो इसके लिए भी आपको एक मशीन खरीदनी होती है। ऐसा बहुत कम जने करते हैं लेकिन यदि आपको नाम छापना ही है, तो आप मशीन खरीद ले। तो दोस्तों आज हमने जाना कि हम किस प्रकार घर बैठे ही पेन बनाने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

1 thought on “बॉल पेन बनाने का बिज़नेस – Pen Manufacturing Business & Machine Information

Leave a Comment

error: Content is protected !!