बायोटेक्नोलॉजी में बनाएं अपना करियर , क्या है स्कोप पूरी जानकारी

बायोटेक्नोलॉजी की मदद से हम जीव जंतुओं और उनके प्रोडक्ट को टेक्नोलॉजी की सहायता से नए और बेहतर प्रोडक्ट बनाते हैं। बायोटेक्नोलॉजी का उपयोग बहुत जगहों पर होता है जैसे मेडिकल , एग्रीकल्चरल , और इंडस्ट्रियल फील्ड में इसका मुख्य रूप से चीज़ों को और बेहतर करने के रूप में होता है। बायोटेक्नोलॉजी की मदद से हम जीव जंतुओं और उनके प्रोडक्ट को टेक्नोलॉजी की सहायता से नए और बेहतर प्रोडक्ट बनाते हैं। बायोटेक्नोलॉजी का उपयोग बहुत जगहों पर होता है जैसे मेडिकल , एग्रीकल्चरल , और इंडस्ट्रियल फील्ड में इसका मुख्य रूप से चीज़ों को और बेहतर करने के रूप में होता है।

मेडिकल को रेड बायोटेक्नोलॉजी , एग्रीकल्चर को ग्रीन और इंडस्ट्रियल को वाइट बायोटेक्नोलॉजी भी कहते हैं , मेडिकल क्षेत्र में बायोटेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से वैक्सीन और एंटीबायोटिक की खोज हुई है जिससे मानव स्वास्थ चिकित्सा में काफी मदद मिली है , एग्रीकल्चर बायोटेक्नोलॉजी में हमें पशुओं और पेड़ पौधे की रोग प्रतिरोधक क्षमता और उनके उत्पाद क्षमता दोनों को विकसित किया गया है , इसी प्रकार इंडस्ट्रियल तकनीक और नए नए उत्पाद में वाइट बायोटेक्नोलॉजी के मदद से हम स्ट्रेंथ फाइबर जिससे बुलेट प्रूफ जैकेट और बायो फ्यूल्स जिससे हम ईंधन बनाते हैं काफी मदद मिली है इसके अलावा और भी प्रोडक्ट को इसकी मदद से बनाया गया है जैसे रोज़ के जरूरत में इस्तेमाल होने वाली चीज़ें इत्यादि।

बायोटेक्नोलॉजी के दो कोर्सेज ज्यादा फेमस हैं :-

बीएससी इन बायोटेक्नोलॉजी :

बी-टेक इन बायोटेक्नोलॉजी 

BSc Biotechnology एक अंडरग्रेजुएट कोर्स है जो की 3 साल का होता है , बायोटेक्नोलॉजी करने के लिए आपके पास अलग अलग तरह के विकल्प भी होते हैं जैसे

Medical Biotechnology

Agricultural Biotechnology

Industrial Biotechnology

आप जिस फील्ड में इंटरेस्टेड हैं उसका चयन कर सकते हैं , कोर्स की अवधी 3 साल की होती है और प्रत्येक सेमेस्टर 6 महीने का होता है।

BSc Biotechnology में subject कौन कौन से होते हैं

पहला Semester

1              अंग्रेजी  (Compulsory paper)

2              बायोटेक्नोलॉजी  – 1            Biotechnology & Cell Biology का परिचय

3              Microbiology – 1                Fundamentals of Microbiology

4              Biochemistry – 1                Physical and Chemical aspects of Biochemistry

सेकंड Semester

1              अंग्रेजी  (Compulsory paper)

2              Biotechnology – 2    Biochemistry, Biocomputing and Biostatistics

3              Microbiology – 2                Microbial Chemistry and Physiology

4              Biochemistry – 2                Biomolecules

 

थर्ड  Semester

1              अंग्रेजी  (Compulsory paper)

2              Biotechnology – 3             Cellular Metabolism

3              Microbiology – 3                Microbial Diversity

4              Biochemistry – 3

 

फोर्थ Semester

1              अंग्रेजी  (Compulsory paper)

2              Biotechnology – 4             Environmental Biotechnology

3              Microbiology – 4                Analytical Techniques and Bioinformatics

4              Biochemistry – 4

 

फिफ्थ Semester

1              Biotechnology – 5             Biochemical Engineering and Bioprocess

2              Biotechnology – 6             Genetics & Molecular Biotechnology

3              Biotechnology – 7             Immunology

 

सिक्स  Semester

1              Biotechnology – 8             Prin. of Biotechnology applied to plants and animals

2              Biotechnology – 9             Analytical Techniques in Biotechnology

3              Biotechnology – 10           Advanced Molecular Techniques & Bioinformatics

 

प्रत्येक  Papers  70 मार्क्स का Theory, 30 मार्क्स  Internal और  50 marks प्रैक्टिकल

BSc Biotechnology करने के लिए eligibility criteria :-

आप का साइंस स्ट्रीम से 10+2 होना चाहिए और minimum 55 % मार्क्स होने चाहिए , आप PCB (Physics ,chemistry , Biology  ) या PCM (Physics , Chemistry , Maths)  दोनों से eligibile हैं।

BSc Biotechnology करने के बाद कहाँ जॉब मिलता है क्या है करियर स्कोप :-

Private jobs after bsc Biotechnology :-इन प्राइवेट कम्पनीज में आप आसानी से जॉब कर सकते हैं Manufacturing Industry Research Laboratory       Pharmaceutical firm Agriculture sector Textile Industries

Government jobs after bsc Biotechnology :-

National Center for cell science

Bureau of police  R&D

Ministry of AYUSH Research फ़ेलोशिप

DRDO
जॉब्स salary after bsc Biotechnology :- यदि आपने किसी अच्छे कॉलेज से बायोटेक्नोलॉजी किया है तो आप का प्लेसमेंट किसी अच्छे कंपनी में आसानी से हो जाता है और फ्रेशर की स्टार्टिंग सैलरी बीएससी बायोटेक्नोलॉजी के बाद आपको 3 – 5 लाख रूपए आराम से मिलते हैं।

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!