देसी मुर्गी पालन का लाभ पूरी जानकारी और प्रमुख नस्लें Information in Hindi

मुर्गी पालन व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जो अतिरिक्त आय का साधन बनता है और देश में 25-30 लाख लोगों को रोज़गार उपलब्ध कराता है , देसी मुर्गी पालन को हम कम पूँजी थोड़ी जमीन और थोड़ी सी मेहनत से आसानी से किया जा सकता है , मुर्गी पालन का चलन भारत में तेज़ी से बढ़ रहा है चीन और अमेरिका के बाद भारत अंडा उत्पादन में तीसरे स्थान पर और मांस उत्पादन में 5 स्थान पर है । Murgi Palan मुर्गी पालन को हमलोग poultry farming या कुक्कुट पालन kukut Palan भी कहते हैं। इस लेख में आपको मुर्गी पालन की जानकारी दी जाएगी।

यदि हम अत्याधुनिक तरीके से मुर्गी पालन की विधि को जानकर इस काम को करें और मुर्गी पालन का सही प्रशिक्षण लेकर इस व्यवसाय का शुरुवात करें तो हमें मुर्गी पालन व्यवसाय में ज्यादा लाभ होगा , ब्रायलर की अपेक्षा देसी मुर्गी का अंडा और मांस का दाम अच्छा मिलता है, यदि हम देसी मुर्गी पालन के लिए सही नस्लों की मुर्गी का चयन करें तो हम इसमें ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं ।

देसी मुर्गी पालन कैसे करें,  प्रमुख नस्ल का चुनाव करें और इन बातों का रखें ध्यान 

मुर्गी फार्म – सबसे पहले तो मुर्गियों का फार्म किसी ऊँचे स्थान वाले क्षेत्र में बनाएं जहाँ वर्षा का पानी जमा न हो सके

आधुनिक उपकरण – आधुनिक उपकरणों में फीडर गर्मी प्रदान करने के लिए लाइट बल्ब तथा हलोजन्स लाइट , दवाई , टीकाकरण की सामग्री इत्यादि

सही संतुलित आहार – आज कल बाजार में सही संतुलित आहार आसानी से उपलब्ध है जिससे आपके मुर्गियों का विकास तेजी से होता है और अंडा देने की क्षमता भी बढ़ती है

देखा जाये तो यह देसी मुर्गी पालन व्यवसाय तीन चीज़ों के लिए किया जाता है । मांस के लिए , अंडा के लिए और अंडा मांस दोनों के लिए , कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाना हमारा उद्देश्य है तथा इसके लिए हमें चाहिए के हम सही देसी नस्लों के मुर्गी का चयन करें । अपने जगह के वातावरण के अनुसार ही मुर्गी का नसल का चुनाव करें आजकल बाजार में संकर नस्ल के मुर्गियां भी उपलब्ध हैं जो के अंडा और मांस के लिए काफी लाभदायक हैं ।

बिहार और झारखण्ड के जलवायु के अनुकूल यह 3 देसी मुर्गी की प्रजातियां ज्यादा प्रचलित हैं

ग्रामप्रिया
श्रीनिधि
वनराजा

कुक्कुट पालन परियोजना हैदराबाद के द्वारा यह तीनो प्रजातियां विकसित की गयीं हैं यह मुर्गियां अण्डों और मांस दोनों के लिए बहुत लाभदायक हैं देखा जाता है के जो हमारे किसान भाई ग्रामीण प्रजाति के मुर्गी पालन करते हैं उसके अपेक्षा में यह संकर नस्ल की प्रजाति अंडे और मांस में ज्यादा मुनाफा देता हैं ।

आइये हम विस्तार से इन तीन प्रजाति के बारे में बात करें

ग्रामप्रिया – ग्रामप्रिया प्रजाति की मुर्गियां भी दोहरी उपयोगिता वाली प्रजाति की मुर्गी है इसका अर्थ यह है के यह अंडा और मांस दोनों के लिए उपयोगी है , 18 महीने में यह 240 से 250 अंडे तक दे सकती है और इसका वजन 1.5 kg से 2 kg तक होता है

श्रीनिधि प्रजाति की मुर्गी

यह प्रजाति ग्रामीण प्रजाति की मुर्गी के अपेक्षा में 230-250 अंडे तक देती है , श्रीनिधि मुर्गियों का वजन 2.5kg से लेकर 5 kg तक का होता है जो की ग्रामीण प्रजाति के मुर्गियों से बहुत ज्यादा है इसीलिए यह दोहरी उपयोगिता प्रजाति में गिनी जाती है इसके मांस और अंडे दोनों से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है ,इन प्रजातियों की मुर्गियां तेजी से बढ़ती हैं

वनराजा – वनराजा प्रजाति की मुर्गियां भी ग्रामीण प्रवेश के लिए काफी अच्छी मानी जाती है यह मुर्गी 120 – 130 अंडे 3 महीने में देती है ।

देसी मुर्गी पालन के लिए यह 3 विकसित प्रजातियां बहुत ही लाभदायक साबित हुई है आप भी अगर देसी मुर्गी पालन करना चाहते हैं तो यह तीनो प्रजातियों को जरूर अपनाएं सही मुर्गी पालन की विधि से ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाएं

18 thoughts on “देसी मुर्गी पालन का लाभ पूरी जानकारी और प्रमुख नस्लें Information in Hindi

  1. Desi Murgi Palan ki jankari
    Sr me Desi murgi Palan Karna chahta hun or srinidi kism ke Palan Karna chahta hun aap salah De ki mujhe kya Karna chahiea or is kism ke chooje kanhan se kharide. Address send kare De to me aap ka bhut abhari rahuga.

    • Yah jaan kar acha laga ke aap desi murgi palan karna chahte hain, srinidhi nasal ka chunaw sahi hai ise aap apne kshetra ke agriculture university se kharid sakte hain, krishi kalyan vibhag ya pashupalan vibhag mein sampark bhi kar sakte hain aap ko puri jankari wahan mil jayegi.

      Thanks for contacting us

  2. sir mere pass 50 desi murgi he , o murgiya ek dusre ke pankh tod deti he . aur unpar chote chote kitak (pisu) he unhe me kaise hata sakta hu…aur me satpuda aur desi murgiya mix kar sakta hu kya?

    • Hindily ko sampark karne ka dhanyawad Akash ji , agar main aapko sahi samajh paya ki aapki murgiyon mein juen (mites or lice) ho gayi hain , yahi karan hai ke wo ek dusre ke pankh tod deti hain mites hatane ke liye , aapko chahiye ke aap murgiyon ke awas ko hafte mein kam se kam ek baar zaroor saaf karein market mein cleaning powder available hain borax ityadi, aur aapko chahiye ke murgiyon ko jo pani peene de usme lahsun ko pees kar mila den wahi pani pilayen isse murgiyon ke skin se jab woh lahsun wala pani bahar aata hai juen / mites / lice woh bardash nahi kar pate aur mar jaate hain aur dobara nahi aate, satpuda ko aap desi murgiyon se alag awaas mein hi rakhen

      Dhanyawaad

      • dhyaan rahe zyada lahsun ki maatra bhi pani mein na ho, ek litre pani mein 2 lahsun kafi hai, lahsun mein sulfur hota hai jise mites tolerate nahi kar pate hain iske alawa murgiyon ko awas ko saaf rakhna bhi bahut jaroori hai

    • Aap apne jile ki agriculture university mein pata kar sakte hain , jila pashupalan vibhag se bhi aapko jaankari mil jayegi..yah breed easily available hain

  3. Hello sir. Mere pas 38 murgi or 9 murga hai. Lekin wo sab mujhe sirf 10 se 12 ande he deti hai har roj k hisab se. Lekin sab adult ho chuki hai or murga bhi apni poori process krta hai. Mujhe kya krna chahiye jiski wajh se wo sab har roj ande deti rhe

    • Hindily ko sampark karne ka dhanyawaad Abhishek Ji , 38 murgiyon mein 10-12 ande to kam hain, ho sakta hai murgiyon ka nasal sahi nahi ho aur unhen poshtik aahar bhi nahi mil pa rahi ho isliye anda utpadan kam hai , aap murgiyon ko kya aahar dete hain usse bhi nirbhar karta hai

    • हिंदली को संपर्क करने का धन्यवाद् साहिल जी , यहाँ इस लेख में मैंने जो मुर्गियों की नसल के बारे में बताया है वह बहुत उचित है , आप इन्ही नस्लों का चयन करें , श्रीनिधि और ग्रामप्रिया

  4. Hi
    में देशी मुर्गा को पालन करना चाहता हूं
    एक बड़ी देशी मुर्गी को कितनी square feet जगह की जरूरत होती है

    • हिंदली को संपर्क करने के लिए धन्यवाद् सतीश जी , एक बड़ी देसी मुर्गी के लिए एक स्क्वायर फ़ीट का स्पेस पर्याप्त है , धन्यवाद्

  5. देशी मुर्गीओ कोंसा खाद्य जादा फायदे मंद रहेगा?

  6. Sir m ban raja dasi murgi farm krna chata hu muje iske bare m pure jankari chiya haryana (hissar)ka hu muje chuje kha se lene h or mal splay k ley kha smprak kru 300 chujo ka kitna pisa lgega pls.sir reply

  7. Sir mai desi murgi palan karna chahta hoon per arthik kamjor hone ki vajah se nahi kar paa raha hoon koi thos aur sahi Rai dene k
    i kirpa Karen

    • Hindiliy ko sampark karne ka dhanyawad Tanveer Ji , aap chote se shuruaat karen , 20 murgi aur 5 murge se shuruaat karen , jila ke pashupalan vibhag mein sahyog hetu sampark karein

Leave a Comment