Export Import Business Kaise Kare? Ideas & Opportunities in Hindi

अगर आप export import business करना चाहते हैं या फिर इसकी जानकारी चाहते हैं तो आप बिलकुल सही जगह आये हैं। आज मैं आपको export import business ideas के बारे में बताऊंगा जिससे आपको ये पता चलेगा की इम्पोर्ट एक्सपोर्ट कैसे करते हैं और इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको क्या करना होगा।
Export Import Business Ideas in Hindi

एक्सपोर्ट इम्पोर्ट बिजनेस क्या है?

Export Import का व्यापार काफी लाभदायक होता है क्योंकि यह लंबे समय तक चल सकता है। इस व्यापार से कई लोगों को रोजगार भी मिलता है। Import और Export के बिजनेस में सामान्तय बाहरी देशों से अपने देश में माल मंगवाने को और अपने देश से बाहरी देशों में माल भेजने को कहते हैं। इसमें बाहर देशों से माल खरीदकर अपने देश में उपभोक्ताओं को बेचा जाता है और अपने देश में उत्पादित माल का दूसरे देश अपने लोगों को बेचते हैं। सामान्तय उन सामानों का Import किया जाता है जिनका हमारे देश में उत्पादन कम है और मांग ज्यादा है। वहीं, जिन उत्पादों का हमारे देश में ज्यादा उत्पादन होता है उसे ऐसे देशों में बेचा जाता है जहां उनकी मांग ज्यादा है। ऐसे मे Import Export business ideas काफी फायदेमंद होता है। आइए जानते हैं Import and Export का बिजनेस कैसे शुरू करें:-

बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन

इस व्यापार को करने के लिए कुछ विशेष कानूनी दस्तावेजों और प्रक्रियाओं को पूरा करना पड़ता है। व्यापार शुरू करने से पहले अपनी कंपनी को रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में रजिस्टर कराएं। अपने व्यापार को ट्रांसपोर्ट के अधीन पंजीकृत कराना होता है। अपने बिजनेस को आप कई श्रेणियों जैसे प्रोपराइटरशिप, पार्टनरशिप, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी आदि के अंतर्गत रजिस्टर करवा सकते हैं। अगर रजिस्ट्रेशन से पहले आपको दुविधा महसूस हो रही है तो जिला उद्योग केंद्र से भी संपर्क कर सकते हैं। इस समय सरकार ने किसी भी बिजनेस के लिए MSMI के अंतर्गत पंजीकरण कराना अनिवार्य कर दिया है। इसके तहत online पंजीकरण करवा सकते हैं।

आइईसी कोड के लिए रजिस्ट्रेशन (IEC Code – Import Export Code)

बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद इस बिजनेस के लिए इंपोर्ट-एक्सपोर्ट कोड लेना पड़ता है। यह कोड सरकार के विदेशी व्यापार मंत्रालय द्वारा जारी किया जाता है। इसके लिए मंत्रालय में आवेदन करें या किसी सीए की मदद से आवेदन करें। IEC code के बाद जीएसटी के लिए भी रजिस्ट्रेशन करवाएं। ये सारे रजिस्ट्रेशन कराने के लिए बाजार में कई कंपनियां मौजूद हैं जो आपके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करते हैं।

India से क्या चीज़ export करे

India से एक्सपोर्ट करने के लिए बहुत साड़ी चीज़ें हैं जैसे की बासमती चावल, कपडे, अगरबत्ती, सब्जियां, फल, इत्यादि

India से कहाँ export करें

आप इंडिया से हर देश के export कर सकते हैं जहाँ इसकी आवशकता है, जैसे की USA, UK, Canada, Australia, Saudi Arab, UAE, Singapore, Malaysia, South Africa, etc.

International बाजार की पहचान करे

किसी निर्यातक के लिए पहला कदम यह है कि वो अपने निर्यातयोग्य वस्तुओं के लिए बाजार की पहचान करें। इसके लिए निर्यातक को अंतरराष्ट्रीय बाजार का सर्वे कर पूरी जानकारी हासिल करनी होगी। निर्यातक को लगातार बाजार पर नजर बनाए रखनी होती ताकि पता चल सके कि किस बाजार से मांग आएगी।

किस चीज़ का import export करना है

रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया में काफी समय लगता है इसलिए इस दौरान यह तय कर लें कि आप किन उत्पादों के import export का बिजनेस करेंगे। जैसे अगर आप ट्रेड व्यापार करने में रुचि रखते हो तो इसके तहत आप विदेश में मिलने वाली सस्ती चीजों को अपने देश में लाकर ऊंचे दामों पर बेच सकते हैं। विभिन्न देशों की वेबसाइट के जरिए कोई भी व्यापारी सामान मंगवा सकता है। अगर आपको चीन से कोई सामान खरीदना है तो इसके लिए उनके आयात निर्यात वेबसाइट पर अपनी क्वयेरी डाल सकते हैं।

Export import business में सरकारी सहायता 

भारत सरकार के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधीन विदेश व्यापार महानिदेशालय ने भारतीय विदेश व्यापार संस्थान के माध्यम से आयात-निर्यात बिजनेस करने के इच्छुक उद्यमियों के लिए ऑनलाइन सर्टिफिकेट प्रोग्राम की शुरुआत की है। इसके तहत इस बिजनेस के बारे में पूरी जानकारी दी जाती है।

Export का order कैसे लें

निर्यात के लिए ऑर्डर मिलने के लिए अपने व्यवसाय का प्रचार करना जरूरी है। अपने व्यवसाय को प्रचारित करें। इसके लिए आप सरकार की भी मदद ले सकते हैं। निर्यात के लिए कई सारी वेबसाइट हैं, जहां से आप अपने सामान को असानी से विदेशों में बेच सकते हैं। इसके लिए अलीबाबा  या इंडियामार्ट की वेबसाइट का प्रयोग कर सकते हैं। अपनी एक्सपोर्ट कंपनी का एक website बनाये, ये वेबसाइट आपको आर्डर लेने में मदद करेगा।

Import Order कैसे दें

Import Export की वेबसाइट पर अपनी क्वेयरी डालें और उससे कोटेशन प्राप्त करें। कोटेशन के जरिए एक कंपनी को चुने। यह कंपनी आपके सभी सवालों का जवाब देगी। कंपनी को ईमेल के जरिए एक फॉर्म के द्वारा डिलिवरी आर्डर दें। किसी लोजिस्टिक फर्म को किराए पर लें और आयातित होने वाली वस्तुओं की पूरी जानकरी उन्हें दें। यह फर्म आपके आयातित सामान को आपके निजी स्थान तक पहुंचा देता है।

कस्टम क्लीयरिंग एजेंट को नौकरी पर रखें

कस्टम एजेंट विभिन्न देशों से भेजे जाने वाले माल को प्रतिबंधित करते हैं। ऐसे एजेंट इंटरनेशल कस्टम ऑथरिटी द्वारा प्रमाणित होते हैं। Import Export Business करने वालों को अपने बिजनेस के लिए कस्टम क्लीयरिंग एजेंट की तैनाती करने की जरूरत है। यह एजेंट उद्यमी को उसका माल अंदर और बाहर भेजने के लिए उसकी कस्टम क्लीयरेंस में मदद करेगा। व्यापारी को बंदरगाह या एयरपोर्ट पर होने वाले हर खर्चे पर पूरी नजर रखनी चाहिए। इनमें हैंडलिंग चार्ज, कस्टम डयूटी और ट्रांसपोर्टेशन चार्ज शामिल है।

Import Export Business में कंटेनर का खर्च

यह खर्च कंटेनर के आकार पर निर्भर करता है। इसके लिए आपको एक पोर्ट से दूसरे पोर्ट तक भेजने के लिए कम से कम 20 फीट के कंटेनर को भाड़े पर लेना पड़ेगा। इस कंटेनर का किराया जिस देश से सामान मंगवाना है उस पर निर्भर करता है। सामान्यत इस व्यापार को शुरू करने के लिए 5 से 6 लाख रुपए तक की जरूरत होती है। इसमें टैक्स भी शामिल होता है।

Import export का business बहुत ही फायदेमंद है और इसमें आप बहुत कमाई कर सकते हैं। अगर आप Import export करने के लिए सही सामान का चयन करलें तो आप बहुत कमाई करेंगे। आप शुरू में पहले Small ideas से शुरू कीजिए उसके बाद धीरे धीरे महंगे चीज़ों का इम्पोर्ट एक्सपोर्ट कीजिए।

2 thoughts on “Export Import Business Kaise Kare? Ideas & Opportunities in Hindi

Leave a Comment