फास्ट फूड रेस्टोरेंट Fast Food Restaurant Business Plan Hindi

भारत में रेस्टोरेंट का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। ऑनलाइन फूड डिलिवरी वेबसाइट जैसे जोमैटो और स्विगी के कारण ऑनलाइन आने वाले ऑर्डरों में अच्छी-खासी बढ़ोतरी हुई है। अच्छा और स्वादिष्ट खाना हर किसी की जरूरत है इसलिए पिछले कुछ सालों में फास्ट फूड रेस्टोरेंट की इंडस्ट्री काफी मुनाफे में चल रही है। वित्तीय वर्ष 2015 में इंडस्ट्री का कारोबार 258 बिलियन डॉलर के आसपास रहने का अनुमान है, जबकि वित्तीय वर्ष 2020 तक यह कारोबार 318 बिलियन डॉलर  तक पहुंच जाएगा। आइए आपको बताते हैं कि फास्ट फूड रेस्टोरेंट बिजनेस शुरू करने के लिए कितनी जगह, रुपए और किन-किन लाइसेंस की जरूरत होती है।

फास्ट फूड रेस्टोरेंट के लिए करें प्लानिंग

Fast Food Restaurant Business Plan

किस प्रकार का फास्ट फूड रेस्टोरेंट

आजकल कई तरह के फास्ट फूड प्रचलन में हैं जैसे चाइनीज, इटालियन, अमेरिकन इत्यादि। सबसे पहले आप यह फैसला कर लें कि आपको किस तरह का फास्ट फूड रेस्टोरेंट खोलना है। आप किस प्रकार का रेस्टोरेंट खोलना चाहते हैं यह रेस्टोरेंट में रखे जाने वाले व्यंजनों पर निर्भर करता है। खाना बनाने के बारे में आपका अनुभव और खाना पकाने में आपकी क्रिएटिविटी आपको रेस्टोरेंट चलाने में मदद करेगी। सबसे पहले ये फैसला कर लें कि आप अपने रेस्टोरेंट में किस प्रकार का खाना सर्व करना चाहते हैं। फास्ट फूड रेस्टोरेंट खोलने से पहले इस क्षेत्र में अनुभवी किसी बिजनेसमैन से मिलकर उनसे इस बिजनेस की बारीकियों को समझें।

रेस्टोरेंट खोलने के स्थान का चयन

रेस्टोरेंट खोलने का स्थान सबसे महत्वपूर्ण होता है। आपके रेस्टोरेंट में कितने लोग पहुंचेंगे ये तय करेगा कि आपका रेस्टोरेंट कितना सफल होगा। रेस्टोरेंट के लिए लोकेशन का चयन वहां की आबादी, किस प्रकार के लोग वहां रहते हैं, उनकी इनकम और उनके प्रोफेशन के हिसाब से तय करें। अगर आप एक स्टूडेंट एरिया में रेस्टोरेंट खोलने की सोच रहे हैं तो आप ज्यादा महंगा खाना नहीं रख सकते। वहीं, अगर आप किसी पौश इलाके में रेस्टोरेंट खोलने की सोच रहे हैं तो आपको रेस्टोरेंट की साज-सज्जा और गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखना पड़ेगा। लोकेशन का चयन वहां का मुआयना करने के बाद ही करें। इन सब चीजों को तय करने के बाद आपका बजट तय होता है। सामान्तय: अच्छो फास्ट फूड रेस्टोरेंट खोलने के लिए 7-12 लाख रुपयों की जरूरत होती है। यदि जमीन खुद की हो इसका बजट कम हो जाता है।

बजट तय कर लें

रेस्टोरेंट खोलने के लिए इतनी पंूजी होनी चाहिए कि मुनाफा शुरू होने से पहले तक उसका खर्च वहन किया जा सके। रेस्टोरेंट बिजनेस में वेस्टेज की मात्रा अन्य बिजनेस की तुलना में ज्यादा होती है क्योंकि यहां बिकने वाले उत्पाद को आप ज्यादा देर तक ताजा नहीं रख सकते। रेस्टोरेंट शुरू करने से पहले खान-पान की चीजों का हिसाब, कर्मचारियों और कुक का वेतन और रेस्टोरेंट के लिए ली गई जगह का हिसाब लगाना जरूरी है। लिस्ट बनाकर अपना बजट बना लें कि किस चीज पर कितना खर्चा आएगा। इनमें रेस्टोरेंट का किराया, पानी का प्रबंध, राशन, बर्नर, रेफ्रिजरेटर, बर्तन, काउंटर, टेबल-चेयर, सजावट, मेन्यू, स्टॉफ और एड करने की कीमत शामिल है। सबको श्रेणीवार लिखकर बजट अलॉट कर लें। एक अच्छा रेस्टोरेंट चलाने के लिए महीने में 1.5 से लेकर 2 लाख तक का खर्चा आएगा।

लाइसेंस और परमिट लेना जरूरी

रेस्टोरेंट शुरू करने के लिए लाइसेंस लेना होगा। यह लाइसेंस और परमिट स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त होता है। इसके अलावा रेस्टोरेंट का बीमा भी करवाना पड़ता है। रेस्टोरेंट खोलने से पहले लाइसेंस के लिए आवेदन करें। इसके अलावा आपको फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड ऑथरिटी ऑफ इंडिया से परमिट लेना पड़ेगा। साथ ही आपको राज्य के कॉमर्शियल टैक्स विभाग से टिन नंबर लेना होगा।  इसके बाद बिजली, पानी और गैस के कनेक्शन के लिए अप्लाई करना पड़ेगा।

रेस्टोरेंट की सजावट जरूरी

रेस्टोरेंट की सजावट काफी मायने रखती है। इससे आप ग्राहक को आकर्षित करने में सफल होते हैं। कोई थीम बेस्ड लुक के अनुसार भी रेस्टोरेंट की सजावट कर सकते हैं। रेस्टोरेंट की सजावट करने के लिए अगर आपके पास फंड है तो किसी इंटीरियर डेकोरेटर की सलाह लेकर सजावट करें। ध्यान रखें आपका फर्नीचर आरामदेह होना चाहिए।

मेन्यू पर फैसला करें

मेन्यू तय करने के लिए पहले आसपास के रेस्तराओं में विभिन्न व्यंजनों की कीमत के बारे में जानकारी ले लें। इसके बाद अपना मेन्यू बनाएं। अपने ग्राहकों को ध्यान में रखते हुए मेन्यू और उसकी कीमत पर फैसला करें और फिर लिस्ट बनाकर अंतिम मेन्यू पर निर्णय करें।

स्टाफ का निर्धारण और हायरिंग करें

मेन्यू पर फैसला करने के बाद स्टॉफ की लिस्टिंग करें। आपको कितने कर्मचारियों की जरूरत है और कौन-सा कर्मचारी क्या काम करेगा इसकी लिस्ट तैयार कर लें। मसलन, कितने कुक, सफाई कर्मचारी, वेटर, हेल्पर आदि की जरूरत है इसका अनुमान लगा लें। कर्मचारियों को ग्राहक के साथ अच्छा बर्ताव करने की ट्रेनिंग दें। अच्छे कर्मचारी हायर करने के लिए कंसल्टेंसी सर्विस की सहायता लें। खाना अच्छा होगा तो ज्यादा लोग आएंगे इसलिए कुक हायर करते वक्त पूरी सावधानी बरतें कि वो किसी खास तरह के व्यंजन बनाने में एक्सपर्ट हो।

रेस्टोरेंट का विज्ञापन

रेस्टोरेंट खुलने के कुछ हफ्ते पहले से ही इसका प्रचार करना शुरू कर दें। आसपास के रिहायशी इलाकों में पर्चा बटवाएं। शहर के प्रमुख जंक्शनों पर रेस्टोरेंट के बैनर और पोस्टर लगा सकते हैं। एड एजेंसी मदद से अखबारों में एड कर सकते हैं।

सोशल मीडिया के जरिए प्रमोशन करें

आजकल हर किसी के पास स्मार्टफोन हैं और हर कोई सोशल मीडिया पर मौजूद है।  फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे सोशल वेबसाइट पर अपने रेस्टोरेंट का पेज बनाकर अपने खाने और जायके का प्रचार करें। इसके जरिए आप ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सकते हैं। ब्लॉग के जरिए भी आप अपने रेस्टोरेंट की जानकारी लोगों तक पहुंचा सकते हैं।

2 thoughts on “फास्ट फूड रेस्टोरेंट Fast Food Restaurant Business Plan Hindi

Leave a Comment

error: Content is protected !!