मोबाइल फोन रिपेयरिंग बिजनेस में 60 हज़ार महीना मुनाफा

मोबाइल फोन रिपेरिंग का बिजनेस कैसे शुरू करें… ? दोस्तों पैसे कमाने के लिए आज के वक्त में किसी भी काम को छोटा समझना गलत होगा। आज के वक्त में जो काम हमें छोटा लगता है वही काम हमें अच्छे पैसे कमाकर दे सकता है। हमारे भारतीय बाजार में कई तरह के बिजनेस हैं जिनमें तकनीकी क्षेत्र के बिजनेस ने भी काफी तरक्की की है। आज हम उसी क्षेत्र के एक बिजनेस के बारें में आपको बताने जा रहे हैं जिसे करके आप अच्छी खासी इनकम कर सकते हैं। तकनीकी के क्षेत्र में कई तरह के व्यवसाय देखने को मिलते हैं क्योंकि तकनीकी चीजें जो कुछ भी हो लगभग हर घर में हर सदस्य के पास पाई जाती है चाहे वो कौन सी भी हो।

एक वक्त हुआ करता था जब किसी से बात करने के लिए एस टी डी पर जाना पड़ता था और एक मिनट बात करने के भी दस से बीस रुपये लग जाया करते थे लेकिन आज तकनीकी क्षेत्र में तरक्की होने के बाद लगभग बच्चे-बच्चे के हाथ में मोबाइल होता है। मोबाइल में भी कीपेड और स्क्रीन टच केटेगरी के मोबाइल हो सकते हैं। आपने देखा होगा कई बार आपके मोबाइल में कोई पार्ट्स के खराब हो जाने या मोबाइल के गिर जाने पर उसे रिपेयर कराने जाना पड़ता है। छोेटे से छोटे काम में भी आपके दो सौ से ढाई सौ रुपये तक लग जाते होंगे। आपने नजदीक कई सारी मोबाइल रिपेरिंग की दूकाने देखी होगी। आज हम आपको इसी बिजनेस के बारें में बताएंगे कि आप किस प्रकार ये बिजनेस शुरू करके अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

मोबाइल फोन रिपेरिंग बिजनेस के लिए क्या-क्या चाहिए

दोस्तों इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको एक दूकान की जरूरत पड़ती है। यदि आपके घर के आस-पास का क्षेत्र बिजनेस के लिए अच्छा है और आपके घर ही दूकान अवेलेबल हैं तो आप अपनी दूकान खोल सकते हैं। अगर आपके पास जगह की कमी है तो अपने एक अच्छे चलने वाले बाजार में एक दूकान किराये पर ले लीजिए। आपको दूकान आसानी से पांच हजार तक या इससे कम के मासिक किराये पर उपलब्ध हो जाएगी। इसके बाद सबसे ज्यादा जरूरी बात ये है कि आपको मोबाइल रिपेरिंग का ज्ञान होना अतिआवश्यक है क्योंकि बिना मोबाइल रिपेरिंग के ज्ञान के बिना आप मोबाइल रिपेयर नहीं कर पाएंगे। यदि आपको मोबाइल रिपेयर करना नहीं आता है तो आप किसी मोबाइल रिपेयर के जानकार लड़के को काम पर रख सकते हैं और आप स्वयं मोबाइल रिपेरिंग का ज्ञान लेना चाहते हैं तो शहरों में ऐसे कई बड़े-बड़े इंस्टीट्यूट खूले हुए हैं जो पांच से दस हजार तक की फीस में मोबाइल रिपेरिंग का कोर्स करवाते हैं।

आज कल हर तरह की ट्रेनिंग के लिए इंस्टीट्यूट खूले हुए हैं तो आपको इसके बारें में जानकारी लेनी ही होगी। यदि आप सीखना चाहते हैं और आपके पास पैसा नहीं है तो आप यूट्यूब पर सर्च करके ऐसे कई सारे विडियोज सर्च करके उनको देखकर सीख सकते हैं जिनमें मोबाइल रिपेरिंग करना सीखाया जाता है। इसके बाद आपके पास बिजली कनेक्शन होना चाहिए क्योंकि बिना बिजली कनेक्शन के आप मोबाइल रिपेयर नहीं कर पाएंगे। इसके बाद एक दो टेबल और आपके काउंटर के लिए कुछ फर्नीचर की जरूरत होगी जो आपके सात से दस हजार तक उपलब्ध हो जाएंगे।

इसके बाद जो जरूरी चीज आती है जिसके बिना मोबाइल रिपेयर करना नामुमकिन है उसे आपको खरीदना पड़ेगा और वो है मोबाइल रिपेरिंग टूल्स। ये टूल्स आपको आपके नजदीकी बाजार या ओनलाइन मार्केट से आसानी से पांच हजार तक के खर्च में आपको उपलब्ध हो जाएंगे। इनमें आपको वो सारे औजार उपलब्ध हो जाएंगे जिससे आप मोबाइल रिपेयर कर पाएंगे। इन चीजों के अलावा आपकी दूकान में कुछ मोबाइल के पाटर््स उपलब्ध होने चाहिए जिनमें मोबाइल बैटरी,चार्जर,मोबाइल के लिए टच,स्क्रीन आदि। यदि आप ये पार्ट्स नहीं रखना चाहते हैं तो आपके आस-पास के बाजार में मोबाइल पार्ट्स की दूकान तो जरूर होगी जहां पर होलसेल में मोबाइल पार्ट्स मिलते हैं। आप होलसेलर से सम्पर्क करके बात कर ले जब आप उसके ग्राहक बन जाते हैं तो आप भले एक-एक पार्ट्स भी क्यों न लेकर आएं आपका खाता चलता रहेगा और सस्ते में आपको पार्ट्स मिल जाएंगे।

इस बिजनेस से कितना मुनाफा होगा

कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले इंसान मुनाफे के बारें में ही सोचता है और सोचना भी चाहिए। जहां तक इस बिजनेस में मुनाफे का सवाल है इसमें यदि आप एक मोबाइल स्क्रीन भी ड़ालते हैं जो दो सौ रुपये तक आपके पड़ती है तो आप उसे रिपेयर करने के बाद पांच सौ साढ़े पांच सौ रुपये चार्ज लेते हैं। यदि आप एक चार्जिंग शोकिट भी ड़ालते हैं तो ये आपके पचास रुपये तक पड़ जाता है और रिपेयर करने के बाद आप इसके दो सौ रुपये तक कमा सकते हैं। इस तरह से आप अगर एक दिन में दस मोबाइल भी रिपेयर करते हैं तो कम से कम 1500 से दो हजार रुपये एक दिन के कमा सकते हैं। यानि आप कम से कम चालिस से पचास हजार रुपये खर्च वगेरा निकालने के बाद भी कमा सकते हैं।

इन बातों का विशेष ध्यान रखना होगा

मोबाइल रिपेरिंग के बिजनेस में ऐसी कई सारी बातें हैं जिन्हें ध्यान में रखना बहुत ही जरूरी होता है। सबसे पहले मोबाइल रिपेयर करने के लिए हमेशा मोबाइल रिपेरिंग टूल्स का ही उपयोग करें और कभी भी बिना किसी टूल्स के मोबाइल के पार्ट्स को ना खोले। मोबाइल रिपेरिंग का बिजनेस शुरू करने से पहले मोबाइल रिपेरिंग करना जरूर सीख लें। आप हमेशा ग्राहकों को अच्छी सर्विस देने का काम करें। मोबाइल में अच्छी क्वालिटी के पार्ट्स ही ड़ाले ना कि पुराने पाटर््स ड़ाले।

यदि आपके पास कोई पुराने पार्ट्स हैं और उनकी क्वालिटी अच्छी है तो आप ग्राहकों को संतुष्ट करके उन्हें अच्छी सर्विस दे सकते हैं। ऐसा करने पर मार्केट में आपकी गुडविल अच्छी बनेगी। कई बार ग्राहकों के मन में इस बात का भय रहता है कि मोबाइल रिपेयर करने वाला कहीं मोबाइल से अच्छे पाटर््स निकालके अपने पास ना रख लें। आपको इस बात का पूरा खयाल रखना पड़ेगा कि ग्राहकों के मोबाइल के पाटर््स को निकालकर अपने पास रखने का ना सोचे। ऐसा करने पर आपको मुनाफा नहीं बल्कि एक तरह से घाटा ही होगा क्योंकि आपके ग्राहक बढ़ने की बजाय घट जाते हैं। तो दोस्तों आज हमने सीखा कि किस प्रकार आप मोबाइल रिपेरिंग का बिजनेस शुरू करके अच्छी इनकम कर सकते हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!