जानिए NGO कैसे बनाये – Information On How To Start An NGO in India

NGO कैसे बनाये? दोस्तों NGO के बारे में आपने जरूर सुना होगा लेकिन कभी-कभी आपको ये लगता होगा कि ये होता क्या है? जैसे कि आपको पता लग गया होगा कि ये एक शाॅर्ट नेम है और आपको इसकी पूरी जानकारी चाहिए होगी। सबसे पहले हम यहीं से शुरूआत करते हैं कि NGO का पूरा नाम होता है ”नोन गवर्मेंट ओर्गेनाइजेशन” “Non-Governmental Organization” जिसका हिन्दी अर्थ “गैर सरकारी संस्था” या “अलाभकारी संस्था” होता है। आज हम बात करेंगे की एक NGO कैसे बनाये – How To Start An NGO & NGO Registration process in Hindi

NGO का कार्य सकारात्मक सोच के साथ-साथ समाज में फैली बुराइयों को खत्म करना और जरूरतमंदो की सहायता करना होता है। दोस्तों हमारे समाज में दो तरह के लोग होते हैं एक तो वो जिन्हें स्वयं से मतलब होता है और किसी से कोई मतलब नहीं होता दूसरे वो जिन्हें दूसरों की पीड़ा नजर आती है। जब किसी को पीड़ा में देखकर समाज में रह रहे चिंतक को उनकी पीड़ा का अहसास होता है और वो उनके दर्द पर चिंतन करके उनके लिए कुछ कर सकने की ठान लेते हैं। वो इस समाज सेवा हेतु ऐसे कई चिंतक ढूंढता है जो उसके साथ ये समाज सेवा का काम कर पाये, उनकी टीम बनाकर समाजसेवा का उद्देश्य लेकर एक समाजसेवी संस्था की नींव रखी जाती है, जिसे हम NGO के नाम से जानते हैं।

ये संस्था पैसो के लिए नहीं बल्कि सेवा के लिए और पुण्य कमाने के लिए कार्य करती है। हमारे समाज में यदि अपवाद हैं तो कुछ ऐसे चिंतक भी मौजूद है जिन्हें अनाथ और बेबस, भूख से पीड़ित आदि का कष्ट दिखाई देता है।

NGO के क्या कार्य हैं ?

जैसा कि हमने जाना है, NGO एक समाजसेवी संस्था होती है जो समाज में पीड़ितो की सहायता बिना किसी लोभ और लालच के करती है। हमारे देश में कई तरह की चीजों से पीड़ित लोग है जिनमें सबसे पहली जरूरत रोटी,कपड़ा और मकान होता है। इसके बाद बेसहारा, अनाथ आदि सहारे के लिए तरसने वाले लोग एवं बच्चे जिनके पास अपनों का सहारा नहीं होता उनके हित में कार्य करना उन्हें जरूरतें उपलब्ध करा कर एक नया जीवन देना, जिससे कि उनके जीवन जीने की वजह फिर जिंदा हो सके और वो दर दर की ठोकरे खाने से बचे रहे।

कई स्वास्थ्य से पीड़ित लोग जिन्हें सही चिकित्सा नहीं मिल पाती, उनके लिए कार्य करना भी एक NGO संस्था का कार्य होता है। इसके अलावा शिक्षा के क्षेत्र में भी जरूरतमंद बच्चो को निशुल्क शिक्षा देने के लिए भी NGO कार्य करता है। इतना ही नहीं आज के वक्त में नारी की पीड़ा कुछ कम नहीं है, नारी कई सामाजिक कुरीतियों की शिकार बनी हुई है, जिनके हित के लिए कई NGO संस्थाएं कार्य कर रही है। हमारे देश में 14 वर्ष की उम्र से कम वाले बच्चे कई कारखानों आदि में काम करते नजर आते हैं, जो बालश्रम कानून के खिलाफ है।

कई माता-पिता पैसो की कमी से अपने बच्चो को काम पर लगा देते हैं, जिसके कारण वो शिक्षा एवं खेल जगत के रूझान से अपरिचित रह जाते हैं और साथ ही वो जीवन भर अपरिपक्व अवस्था में रह जाते हैं। ऐसे बालकों को बालश्रम से मुक्त कराकर उनके हित में कार्य करना भी NGO संस्था का काम है।

हमारे देश में लाखों लोग भूखमरी के शिकार हैं जिन्हें एक वक्त का एक निवाला भी नसीब नहीं होता और उनके बच्चे भूखमरी एवं कुपोषण के शिकार हो जाते हैं। ऐसे जरूरतमंद भूखमरी से पीड़ितो की सहायता करना भी NGO का कार्य होता है। कई जिलों में ऐसे NGO भी हैं जहां पर यदि आपके पास पुराने वस्त्र हैं तो आप उन्हें उस संस्था में जाकर जरूरतमंदो के लिए जमा करवा सकते हैं। NGO के कार्य के लिए जितनी बात की जाए कम होगी दोस्तों सीधी सी बात है जब कोई किसी की भी जरूरत हो कोई भी जरूरत हो उसकी सहायता करने के लिए कार्य करे, वो उस NGO का कार्य होता है।

NGO किन-किन के लिए बन सकते हैं ? Types Of NGO You Can Start

NGO उन हर समाज सेवा के लिए बन सकता है, जो आप अपनी टीम के साथ करना चाहते हैं।

  • आप चाइल्ड लेबर के हित में कार्य कर सकते हैं, जिसके लिए एक संस्था बना दीजिए।
  • इसके अलावा आप नारियों के हित में कार्य करने के लिए संस्था बना सकते हैं।
  • अनाथ बच्चों के लिए भी आप एक अनाथालय को NGO संस्था का रूप देकर चला सकते हैं।
  • कई लोगों को वृद्धावस्था में बेघर कर दिया जाता है, आप उनके लिए एक वृद्धाश्रम खुलवाकर अपनी संस्था का निर्माण कर सकते हैं।
  • भूखमरी से पीड़ित लोगों के लिए आप भोजन आदि की व्यवस्था कर उन्हें उपलब्ध कराने के लिए संस्था बना सकते हैं।
  • आप उन बच्चो के हित में संस्था बनाकर कार्य कर सकते हैं जो बोल और सुन नहीं सकते या शारीरिक तौर पर विकलांग या असक्षम है, साथ ही आप इनके लिए एक विद्यालय चला सकते हैं जहां इनके रहने की भी व्यवस्था हो।
  • आप चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए अपनी एक संस्था का निर्माण कर सकते हैं। आप प्राकृतिक आपदाओं के बचाव और उसमें घायल एवं पीड़ितो के सहायतार्थ संस्था का निर्माण कर सेवा कार्य कर सकते हैं।

अपना खुद का NGO कैसे बनाए – How To Start Your Own NGO in India

कई लोगों के पास अच्छी खासी सम्पति होती है, तो वो अपनी सम्पति को समाज के हित में खर्च करते हैं। कोई समाज सेवा के कार्य के लिए डोनेशन एकत्रित करता है। कोई अपने सदस्यों से पैसे प्राप्त करता है और कोई लोन लेकर इस संस्था का निर्माण करता है।

एक NGO बनाने के लिए सबसे पहले आपमें समाज सेवा का लक्ष्य होना चाहिए और वो भी लोभ लालच से रहित। इसके बाद आपमें कुछ करने का जज्बा और सकारात्मक सोच होनी चाहिए। अगर आप समाज के हित में कार्य करने का सोच लो तो आपको पैसे समाज हित के लिए जरूर प्राप्त हो जाते हैं, बस उसमें आपकी लगन होनी चाहिए।

सबसे पहले आपको ये जानना जरूरी है कि आपकी संस्था आपको किस रूप में रजिस्टर्ड करवानी है क्योंकि ये तीन प्रकृति की होती है

  • पहली एक ट्रस्ट के रूप में
  • दूसरा सोसायटी के रूप में
  • और तीसरा नोन प्रोफिट कम्पनी के रूप में।

सबसे पहले यदि आप एक ट्रस्ट के रूप में रजिस्टर्ड करवाना चाहते हैं तो आपको इण्डियन ट्रस्ट एक्ट 1882 के तहत रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। अगर आप सोसायटी के रूप में रजिस्टर्ड करवाना चाहते हैं तो आपको सोसायटीज के रूप मेें रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। यदि आप नोन प्रोफिट कम्पनी के रूप में रजिस्टर्ड करवाना चाहते हैं तो आपको इण्डियन कम्पनीज एक्ट 2013 की धारा 8 के तहत इस संस्था का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

आपको सबसे पहले ट्रस्ट बनाने के लिए कम से कम दो सदस्य की आवश्यकता होगी। आपको अपनी टीम बनानी होगी जिसमें आप पदाधिकारी नियुक्त करेंगे।

NGO के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया – NGO Registration Process

सबसे पहले ट्रस्ट का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपको एक व्यक्ति गवाह के रूप में चाहिए होगा साथ ही आपको कुछ जमीन ट्रस्ट के लिए चाहिए होगी। आपकी संस्था का एक प्रस्ताव होना चाहिए इसके बाद आपको रजिस्ट्रार के कार्यालय में उपस्थित होना होगा। वहां पर जाकर पंजीकरण का आवेदन पत्र आपको प्राप्त हो जाएगा।

आप राष्ट्रीय न्यास की वेबसाइट पर जाकर आॅनलाइन फाॅर्म भर दे या आपको कार्यालय से ये फाॅर्म मिल जाएगा। उसके बाद आप रजिस्ट्रार के पास जाए। एक बात हमेशा ध्यान रखें पंजीकरण शुल्क हमेशा आपकी सम्पति के हिसाब से लगता है।

इसमें आपको हलफनामा, स्टाम्प, उत्तराधिकार के बारे में जानकारी, सहमति पत्र आदि की जरूरत पड़ती है। इसमें दो सदस्य जिनमें एक सैटलर और ट्रस्टी होता है। अब आप यदि सोसायटी के रूप में पंजीकरण कराना चाहते हैं तो इसमें कम से कम 7 सदस्य होना अनिवार्य है।

आपको सोसायटी रजिस्ट्रार के पास जाकर सोसायटी का रजिस्ट्रेशन कराना होगा। पंजीकरण की प्रक्रिया हर राज्य में अलग-अलग हो सकती है, इस हेतु आप किसी जानकार से जानकारी जरूर प्राप्त कर ले। आपको संस्था के नियम से टंकित एक काॅपी, 20रुपये के स्टाम्प पर हलफनामा, सहमति पत्र, घोषणा एवं प्राधिकार पत्र आदि आवेदन पत्र में लगानी होगी।

नोन प्रोफिट कम्पनी की प्रोसेज कुछ लम्बी पड़ जाती है, इसीलिए आप एक सोसायटी के रूप में ही अपनी NGO संस्था का पंजीकरण कराए।

NGO के लिए पैसा और डोनेशन कैसे प्राप्त होंगे – How To Get Funding For An NGO

दोस्तो कई बार समाज सेवी संस्थाएं कार्य करना चाहते है लेकिन उनके पास फंड नहीं होता जिसकी वजह से कुछ NGO खुलने से पहले ही बंद हो जाते हैं। बड़ा मुश्किल काम होता है कुछ करने के लिए सोचने का और इसमें भी ये दिक्कत आ जाए तो बहुत ही मुश्किल हो जाता है। वैसे तो सरकार के द्वारा भी फंड प्राप्त होता है। आप एक साइट NGO दर्पण पर अपनी संस्था का पंजीकरण कर लीजिए जो बिल्कुल निशुल्क होता है, ये करने से आप सरकार के द्वारा दिये जा रहे फंड के लिए आवेदन कर पायेंगे।

अपने NGO का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करने के लिए आप सोशल नेटवर्क का सहारा ले सकते हैं। इससे फायदा ये है कि आपकी संस्था के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानेंगे और मदद करने के लिए कई संवेदनशील लोग डोनेशन के लिए आगे आएंगे। आप यूट्यूब पर अपनी संस्था का चैनल बना सकते हैं। आप अपनी संस्था की एक वेबसाइट बनवा सकते हैं जिसपे आपकी संस्था की संपूर्ण जानकारी होगी। अपनी NGO संस्था की संपूर्ण सम्पति की जानकारी आपको सही से रखनी होगी। फंड नहीं आने पर घबराये नहीं इस हेतु ज्यादा से ज्यादा प्रयास करने का सोचे।

इसके बाद आपके समाज के अंदर संवेदनशील तरीके से जरूरतमंदो की पीड़ा लोगो तक पहुंचानी होगी जिससे कि कई संवेदनशील व्यक्ति आपको डोनेशन देने के लिए आगे आएंगे। समाज में बहुत पैसे वाले व्यक्ति होते हैं यदि आप एक के भी दिल को जीत पाये तो आप इस NGO को बहुत आगे ले जा सकते हैं।

आप टीवी चैनलों पर इस हेतु एड दे ताकि लोग आपकी सेवा के बारे में जाने। आप आपके शहर में ज्यादा से ज्यादा प्रचार करें। कई NGO साहित्यिक या कई प्रकार की मासिक पत्रिकाओं का प्रकाशन करते हैं जिनसे उनके डोनेशन आदि में सहायता मिलती है। आप अपने NGO के द्वारा कई प्रोग्राम रखें। अलग-अलग शहरों में प्रयास करते रहे।

ये बातें विशेष तौर पर ध्यान रखनी होगी – Important Information About NGO

एक NGO संस्था की नींव हमेशा सकारात्मक सोच और समाज सेवा होती है। कभी भी अपने मन में लोभ और लालच को न आने दे। आपकी संस्था का उद्देश्य केवल और केवल समाज सेवा होना चाहिए न कि किसी की भावनाओं को ठेस पंहुचाने वाला।

अपनी टीम में एकता बनाए रखनी होगी और सभी के मन में समाज सेवा का उद्देश्य और कुछ करने की लगन होनी चाहिए। जितने सदस्य हैं सभी को पदों पर नियुक्त करें और उन्हें एक योजना बनाकर कार्य सौंपा जाए। फंड आदि के रिकाॅर्ड को व्यवस्थित रखें। आपकी मेहनत पर निर्भर है कि आप इस संस्था को कहां तक लेकर जा सकते हैं। समय≤ पर आने वाली योजनाओं पर ध्यान रखें। अपने प्रोजेक्ट को फंड के हिसाब से तैयार करें।

संस्था का रजिस्ट्रेशन कराते वक्त आपके साथ संस्था के सदस्य भी उपस्थित होने चाहिए। सभी के द्वारा प्रस्ताव तैयार होना चाहिए जिसमें समाज के हित का उद्देश्य होना चाहिए। यदि आप मंदबुद्धि या असक्षम बच्चों के लिए संस्था चला रहे हैं तो उनका पूर्ण रूप से ध्यान रखने और समय पर उनके अभिभावकों से सम्पर्क करने की योजना बनानी होगी। यदि आप बालश्रम आदि के लिए कार्य कर रहे हैं तो सबसे पहले आप इनके लिए बने कानून के बारे में जरूर जान ले।

कई बार लड़कियों को सर्कस आदि में बेच दिया जाता है, तो आपको ऐसी बातों का खयाल रखना होगा कि कहां-कहां पर आपको ऐसे पीड़ित पीड़ा भोगते मिल सकते हैं। आप अपनी संस्था के द्वारा उन्हें इस पीड़ा से मुक्त कराए।

अपने NGO से आप अपने शहर की उन संस्थाओं को भी जोड़ सकते हैं जिनकी गुडविल अच्छी हो क्योंकि आपको अपना एक अच्छा नेटवर्क बनाना होगा। आपकी संस्था के सभी सदस्यों को एक्टीव बनना होगा क्योंकि एक के अच्छे नेटवर्क से भी आप बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। तो, दोस्तों आज हमने जाना कि किस प्रकार आप अपना एक NGO खोल सकते हैं और कौन-कौन से खोल सकते हैं।

38 thoughts on “जानिए NGO कैसे बनाये – Information On How To Start An NGO in India

  1. आदरणीय सर हमारा मदरसा सं १९९० से सतत चल रहा हे जैसी हमने सन २००५ में मधय प्रदेश मदरसा बोर्ड में रजिस्ट्रड कराया , उसके बाद से गोवेर्मेंट के सारे नियमो का पालन भी कर रहे हैं,
    परन्तुं अभी तक हमें सरकार की तरफ से किसी भी तरह की सहायता / ग्रांड ,आदि नहीं मिला हैं साथ ही साथ हम किसी से भी चंदा वगेरा भी नहीं लेते हैं,
    विषय में निवेदन करते हे की उचित मदद करे/मार्गदर्शन देवे बड़ी मेहरबानी होगी।

  2. Mai bhi ngo kholna chahta hu but mere pass money problem hai mai waise madad karta rahta hu mai but money problem hai plz help me

  3. Sir me mp se hu. bhai ne NGO society Khola aaj 4 saal ho register kraye me usko chalu rakhna chata hu but money problem hai kya kare

  4. सर मेरा नाम सोनू कुमार झा हैं
    में समस्तीपुर डिस्टिक का रहने
    वाला हूँ। में गेर्जवेशन कर के ऐसे
    प्राइवेट काम करता हूँ। हमारे आस पास गरीब परिवार के गरीबी के नाम पर सरकार से आया हुआ कोई भी फन्द उन तक सहि तरीके से नहीं पहुंच पाता है। जिनको किसी भी तरह का प्रोबलम नहीं है। वो सारे फन्द ओर सारे अनुदान का लाभ उठाते है। ओर जो इसका सही हकदार है। वो इन सारे अनुदान से बनचित रह जाते है।इस लिए मैं एक N.G.O का निर्माण करना चाहता हूँ। ताकि उन गरीब लोगों को उनका सही हक दिलवा सकु। किसी गरीब बेसहारा को उनका मजाक उरते न देख सके। किसी गरीब किसान को मजबूर ओर लाचार हो कर आत्महत्या करने पर मजबूर होता न देख सके।
    इसी लिए मैं एक N.G.O का निर्माण करना चाहता हूँ। ताकि मैं इन गरीबों का द्रद बाट सकु उनका सही हक उन्हें दिला सकु क्रिप्या आप हमारी इस नेक काम मे हमारा साथ दे धन्यवाद।

    • बहुत अच्छे विचार हैं आपके सोनू जी , हिंदली की पूरी टीम आपके इस नेक काम में आपके साथ हैं

  5. एक आप लोगों की मदद से ओर हमारी कोशिश से कितने गरीब परिवार के बच्चों पढ लिख सकते है। उनका सही से भरन पोसन हो सकता है। वो कुपोषण होने के शिकार से बच सकते है।हर गरीब खुशहाल जिवन जि सकता है।
    हर गरीब किसान अपने एक नए उ्रजा के साथ अपने खेतों में मेहनत कर पाएगे । क्योंकि उनकी खुशी में ही हमारी खुशी छुपी हुई हैं।

  6. namashkar sir
    me pichle 2 saal se N.G.O open karne ka soch raha hu but sir chota gaav or rupaye ki kami ke karan badi dikkhat hoti hai.. mere gaav ke aas pas bohat sa re parivar garib he or ashksam bhi badi muskil se unka bhran posan hota hai..
    me chahta hu sir esa koi rojgar yojna suru kru taki un garib logo tak kam pahuche or vo kisi ke mohtaj na rahe..
    sir gaav me bade bade trusty bhi he but abhi mere pass koi platform nahi hai..
    koi suruwat ke sujav de or sir gaav me kya tehsil me jakar aavedan kar skte hai..
    yaha se sehar dur hai..

  7. महोदय हम लोग एक ऐसे बीमार से परेशान लोगो के लिए जो रक्त (लहू ) कि कमी की (Thalassemia ) वजह से, बचपन से ही दवाओं और दयालु लोगों के द्वारा दान किया गया लहू ( रक्त ) के कारण अपना जीवन जीने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगो की मदद करना चाहते है तो हमें इसके लिए ट्रस्ट बनाना या सोसायटी बनाना चाहिए।कृपया इस बारे मे हमें मार्गदर्शन दीजिए

  8. सर जी में खुद दिव्यागं हूँ ओर
    में दिव्यागं लोगों की पिडा जानता हूँ
    मे कोशिश कर एक NGO खोल कर
    सभी दिव्यागं लोगों की मदद करना चाहता हूँ ।।
    आप मुझे सुझाव दें ।।

  9. नमस्कार,
    हम NGO प्रारम्भ करना चाहते हैं
    यहाँ गरीब बच्चो की शिक्षा को लेकर समस्या हैं, शिक्षक भी पर्याप्त नहीं हैं,
    हमें दिशा निर्देश दे…..

    आपका मित्र हरदा मप्र.

  10. Sir,
    Maine 2017 me N.GO. ki suruat ki thi aur abhi mera NGO chal raha hai.
    jisme ham silai prashikxan aur conputer prasikxan garib aur berojgar logon ko de rahen hain. main is kam ko anya chhetron me bhi karna chahata hun lekin bajat kam hone ke karan nahi kar pa raha hun.
    Kripya muchhe batayen ki iske liye main anudan kaise prapt karun.
    aur iski bebside kaise banbon.
    Please help mi.

  11. hello sir
    me NGO kholna chahti hun mene llb ki h me un mahilao ko nyaay dilwana chahti hu jo dahej ya kisi ase insan ka shikar h jo uska shosan krta h ya usko kisi bhi tarh ka nukasan pahucha h aaj ke time par mahilayo ke sath jo durvyhar ho rha h me un sabhi mahilao ke liye kuch krna chahti hu sath hi un mahilao ko unke peron pr khada kr unko kaam dilwana chahti hu taki sabhi mahilaye apna khud ka koi business kare…
    kya meri soch sahi hai plz muje btaye ki me kese is kaam ko anjam de skti hu

  12. सर मेरे लिए मार्ग दर्शन करें में एक ऎसी संस्था सुरु करना चाहता हू कि जो बच्चे अपनी मां से बिछड़ जाते है या उनको किसी कारण बस छोड़ दिया जाता है तो में उन को बाल गीरेह में छोड़ साकु जिससे उनका ठीक से पालन हो सके plzz सर बताए

  13. सर मुझमें हमेंशा से ही दुखीयो के प्रति सेवा का भाव है लेकिन अब मैं भी समाज सेवी संस्था खोलना चाहता हूं। पर मेरी उम्र 17 वर्ष है तथा मेरे सहयोगीयो की उम्र भी 17 वर्ष या 16 वर्ष है क्या हम समाज सेवी संस्था खोलने के योग्य है। उचित मार्गदर्शन प्रदान करने की कृपा करें।

    • बहुत अच्छी बात है के आप यह काम करना चाहते हैं , समाज में दुखी और ज़रूरतमंदों की मदद ही असल कर्तव्य है , आप जब 18 वर्ष के हो जाएँ तब आप यह काम कर सकते हैं ।

  14. सर में जावेद इमाम निवेदन पुर्वक कहता हूँ कि में गांव सिमलबाडी पंचायत तालबाडी थाना अमौर जिला पुर्णियां बिहार के हूं मेरे तीन पीढ़ी दादा पिता जी और अब में भी सरपंच हुं हम सब समाज सेवी और ईमानदारी में अपने झेत्र में मशहूर हैं लोग बहुत समस्या लेकर आते हैं और हम लोग उनकी मदद जहां तक होता करता हूं पर में एक गरीब परिवार से हूं अपने परिवार चलाने में कठिनाई होती और मेरे परिवार को भी दिक्कत होती और समाज सेवा हमारी आदत बिना मदद किए रह नही भुखे प्यासे रह कर भी में लोगों का मदद कर रहा हूं लेकिन इस से मेरा परिवार को दुख झेलना पड़ता है इसलिए में चाहता हूं के एक एनजीओ बना दूं जो लोगों कि मदद मे मेरा सहयोग करे और में भविष्य में वंश की ईमानदारी समाज सेवी भावनाओं को जिन्दा रखू

  15. Sir sarvical sugar lakva GBS syndrome stomach problems Gurney ka dard soraysis thiryed
    Sabhi ka nishulk iilaz kar rahe Hai laykin ab fund Ki zarurat Hai
    Kanha se help milegi

  16. Sir Mara nam priyanka ha ma an ngo bnana chati hu lakin mara pass paso ki baut Jada dikat ha Sir hmara gav ka bait sa bacha asa ha Jo pasa ki wajah sa padie nhi kr raha ha ma onka liya kuch krna chati hu plz help me sir

  17. Sir I m sadhna verma from agra up… sir I want to open child ngo.. hlp me sir mony prblm ki vjh se kch possible ni ho ra kya krna chaiye ese m kese start kre ab

  18. Sir mai NGO open karna cahti hu par mere pass koi property nhi h or na hi koi financial sport mai bujurg logo kai liye NGO open karna chati hu jin parents kai liye bacho kai pass time nhi hota ya bache unki parvah nhi karte unhe bojh samjhte h un parents kai liye mai NGO Knana cahti hu yai problem smaj mai badhti ja rhi h parents ghute h rote h par kisi to koi farak nhi padta. Sir please mujhe slah dai ki mujhe kya karna cahiye

  19. hello sir
    aapki jankariya mujhe bahot achhi lagi mai 1 NGO open karna chata hun our samaj ke liye kuchh karna chahta hu
    mujhe uchit margdarshan de
    jisse mai logo ki madad kr sakun

  20. Dear sir mera name chirag bhanushali hai or me 24 year
    Ka hu muje bhi ngo khol na hai par mere pass koi property nahi hai to kya me ngo khol sakta hu muje government se koi fund bhi nahi चाहिए plzz muje advice de ki me kya karu

  21. Muje kuch krna hai logo ko aage badhana hai batcho ko padhana hai unhe har chij deni hai jo unhe milni cahiye

  22. MAI ANKIT TRIPATHI MAHILA SASHKTIKARAN AUR KUPOSAN SE BACHOO KO BCHANE KE LIYE EK NGO KHOLNA CHAHTA HU ”KRIPA KARKE KUCH SLAH DE ” MERE ELAKE MAI BACHEE AUR MAHILA DONO PRESAN HAI

  23. हेलो सर – मेरा नाम राजा त्रिपाठी है, और मैं छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिला- लोरमी नगर पंचायत से हु, सर मैं यहां के वनांचल में रहने वाले गरीब बच्चो के लिए एक उचित शिक्षा के लिए कार्य करना चाहता हु, और साथ ही कौसल विकास योजना का लाभ हर गरीब बच्चो को दिलाना चाहता हु, ताकि वे अपनी पसंददीदा काम मे ट्रेनिंग लेकर स्वयं का रोजगार बना सके, इसके मुझे आपका मार्गदर्शन चाहिए सर,N G O का निर्माण कैसे करूँ और मुझे इसे रजिस्टर्ड कराने के लिए लगभग कितने सदस्यों की जरूरत पड़ेगी. सुझाव जरूर देवे

  24. भाई मैं उत्तरप्रदेश का रहने वाला हूं, वर्तमान में मैं मध्यप्रदेश में रहता हूं,सभी प्रकार के डाकुमेंट मेरे उत्तरप्रदेश के है मध्यप्रदेश में एक नये ngo निर्माण करना चाहता हू तो कैसे करे

  25. सर मुझे NGO के बारे मे साकारात्मक एवं नाकारात्मक दोनो सुझाव दें। आपका फोन नं चाहिए। NGO के बारे मे आपसे सलाह चाहिए।

Leave a Comment

error: Content is protected !!